हिंदू लड़कियों को स्कूल में हिजाब पहनने को किया जाता है मजबूर

एबीवीपी कार्यकर्ताओं ने हिंदू छात्राओं को हिजाब पहनने पर जिला शिक्षा अधिकारी का विरोध किया.

जून 1, 2023 - 20:36
 0  37
हिंदू लड़कियों को स्कूल में हिजाब पहनने को किया जाता है मजबूर

दामोह शहर के गंगा जमना हायर सेकेंडरी स्कूल में लड़कियों के हिजाब पहनने का मामला लगातार तूल पकड़ता जा रहा है। एक तरफ स्कूल प्रबंधन और कुछ छात्राएं हिजाब जैसे कपड़ों को दुपट्टे और ड्रेस कोड का हिस्सा बता रही हैं, वहीं कुछ छात्राओं के माता-पिता हिंदूवादी संगठन के कार्यकर्ताओं के साथ गुरुवार को कलेक्ट्रेट पहुंचे और आरोप लगाया स्कूल में लड़कियों को हिजाब पहनने की इजाजत नहीं थी। मजबूर है। हिंदूवादी संगठन के सदस्यों ने प्रशासन की उस जांच पर सवाल उठाया जिसमें अधिकारियों ने इस मामले में स्कूल प्रबंधन को क्लीन चिट दे दी है. इसके अलावा एबीवीपी के कार्यकर्ता भी इसी मामले में काली स्याही लेकर डीईओ कार्यालय पहुंचे, लेकिन वहां पहले से ही भारी संख्या में पुलिस बल तैनात था.

गुरुवार को विश्व हिंदू परिषद बजरंग दल के कार्यकर्ताओं के साथ कुछ छात्राओं के अभिभावक भी कलेक्ट्रेट पहुंचे. संस्था से जुड़े पवन रजक का आरोप है कि जिला शिक्षा अधिकारी व अन्य पदाधिकारियों द्वारा संयुक्त रूप से की गई जांच झूठी है. तीन-चार घंटे में जांच के बाद स्कूल को क्लीन चिट कैसे दी जा सकती है? मेरे साथ मेरे कुछ परिवार हैं जिनके बच्चे इस स्कूल में पढ़ते हैं। परिजनों का आरोप है कि उनके बच्चों को हिजाब पहनने के लिए मजबूर किया जाता है. विश्व हिंदू परिषद की सदस्य गिरजा त्रिपाठी ने बताया कि स्कूल में बच्चों को हिजाब बुर्का पहनने के लिए मजबूर किया जा रहा है. उनका आरोप अब साबित हो गया है क्योंकि उस स्कूल में पढ़ने वाले बच्चों के माता-पिता भी इस बात को स्वीकार कर रहे हैं.

फुटेरा वार्ड तीन में रहने वाले नितिन राजपूत का कहना है कि उनकी दोनों बेटियां गंगा जमना स्कूल में पढ़ती हैं. छोटी बेटी के लिए कोई नियम नहीं है। बड़ी बेटी छठी क्लास में पढ़ रही थी और उसे हिजाब पहनने को कहा गया। जब वह घर पहुंची तो उसने बताया कि स्कूल में इसे पहनना अनिवार्य है। जब मैंने उसे मना किया तो वह हिजाब पहनकर घर से नहीं निकली, बल्कि स्कूल जाने पर सिर ढंकना पड़ा। यह हिजाब हमारे धर्म में नहीं बल्कि मुस्लिम धर्म में है, इसलिए उन्हें अपने लोगों को पहनना चाहिए, मुझे कोई आपत्ति नहीं है, लेकिन हिंदुओं के बच्चों पर दबाव डालना गलत है.' एक अन्य अभिभावक दिलीप चौरसिया ने बताया कि मेरी भतीजी भी उसी स्कूल में पढ़ती है, उसे भी हिजाब पहनने को कहा जाता है.

आपकी प्रतिक्रिया क्या है?

like

dislike

love

funny

angry

sad

wow